Prasar Bharati

“India’s Public Service Broadcaster”

Pageviews

KEY MEMBERS – AB MATHUR, ABHAY KUMAR PADHI, A. RAJAGOPAL, AR SHEIKH, ANIMESH CHAKRABORTY, BB PANDIT, BRIG. RETD. VAM HUSSAIN, CBS MAURYA, CH RANGA RAO,DHIRANJAN MALVEY, DK GUPTA, DP SINGH, D RAY, HD RAMLAL, HR SINGH, JAWHAR SIRCAR,K N YADAV,LD MANDLOI, MOHAN SINGH,MUKESH SHARMA, NS GANESAN, OR NIAZEE, P MOHANADOSS,PV Krishnamoorthy, RC BHATNAGAR, RG DASTIDAR,R K BUDHRAJA, R VIDYASAGAR, RAKESH SRIVASTAVA,SK AGGARWAL, S.S.BINDRA, S. RAMACHANDRAN YOGENDER PAL, YUVRAJ BAJAJ. PLEASE JOIN BY FILLING THE FORM GIVEN AT THE BOTTOM.

Saturday, April 19, 2014

आकाशवाणी के प्रसारण शीघ्र नई डिजीटल तकनीक से जुड़ेगेःइंजिनियर-इन-चीफ, आर.के. बुद्धराजा



उदयपुर, आकाशवाणी महानिदेशालय नई दिल्ली के प्रमुख अभियंता आर.के. बुद्धराजा के सान्निध्य में आकाशवाणी में तकनीकी एवं कार्यक्रम विकास के नये आयाम विषयक संगोष्ठी का आयोजन शिल्पी रिसोर्ट के सभागार में हुआ। जिसमें उद्बोधन देते प्रमुख अभियंता ने कहा कि आकाशवाणी उदयपुर सहित देष के अनेक केन्द्रों को शीघ्र ही प्रसारण की नई डिजीटल तकनीक के साथ जोड़ा जिससे श्रोताओं को और अधिक स्पष्ट और गुणवतापूर्ण प्रसारण सुनने को मिलेगा। इसके लिए देश के आकाषवाणी के कई केन्द्रों पर कार्य शुरू किया जा चुका है। उन्होंने आकाशवाणी कर्मियों को नई तकनीक विधा को समझ कर अपने को अपडेट करने की आवश्यकता बताई। प्रमुख अभियंता ने बाद में मोहता पार्क स्थित आकाशवाणी उदयपुर के स्टूडियो परिसर में नव स्थापित सरस्वती देवी की मूर्ति अनावरण किया तथा स्टूडियो व दूरदर्षन रिले केन्द्र का अवलोकन किया। इस अवसर पर आर.के. बुद्धराजा का पगड़ी व माला पहनाकर, उपर्णा ओढ़ाकर कर अभिनंदन दिया गया।

संगोष्ठी के प्रारम्भ में अतिथियों का स्वागत करते हुए आकाशवाणी के उप महानिदेशक माणिक आर्य ने स्थानीय केन्द्र द्वारा प्रसारण के क्षेत्र में निर्मित एवं प्रसारित किये जा रहे कार्यक्रमों के बारे में बताया और कहा कि तकनीकी और कार्यक्रम कर्मियों के समन्वय व सहयोग से मेवाड़ के श्रोताओं को सूचना,शिक्षा और मनोरंजन के बेहतरीन प्रसारण सुनने को मिल रहे है। उन्होने ओ.बी. बेस कार्यक्रमों के कवरेज हेतु आधुनिक डिजीडल रिकार्डर की आवश्यकता प्रतिपादित की। संगोष्ठी में आकाशवाणी कार्यक्रम सलाहकार/श्रवण समिति के सदस्यों एवं क्षेत्र के आकाशवाणी केन्द्रों से आए केन्द्र अभियंताओं द्वारा जिज्ञासापूर्ण पूछे गये प्रश्नों के जवाब दिये । आकाशवाणी उदयपुर के निदेशक अभियांत्रिकी सतीश देपाल ने आकाशवाणी उदयपुर के प्राईमरी व एफ.एम. चैनलो के प्रसारणों की जानकारी प्रदान की। संगोष्ठी में केन्द्र अभियंताओं -राजेन्द्र नाहर, हेमेन्द्र सोनी, विजय ईसरानी, सहित तकनीकी कर्मियों व कार्यक्रम अधिकारियों ने भाग लिया।

अतः में आकाशवाणी कार्यक्रम सलाहकार समिति के सदस्य डॉ. प्रेम भंडारी ने सभी का आभार जताया। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ उद्घोषक राजेन्द्र सेन ने किया।

Contributed By: Shri Gurjeev Walia,gurjeevwalia@gmail.com

WELCOME NEW MEMBERS

Name
R.K.SINGH
City of residence
Designation
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
Name
NEW DELHI
ASSISTANT DIRECTOR (O.L.)
8527084926
sengar87@yahoo.co.in
3/10/1958
Write for betterment of PB
E PURUSHOTHAM
City of residence
BERHAMPUR
Designation
Stenographer
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
Suggestions/Messages
9853163586
purushothame@rediffmail.com
15/11/1973
Write for betterment of PB
Best Wishes
Name
UTTAM KUMAR TIWARI
City of residence
Designation
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
Suggestions/Messages
ALLAHABAD
Engineering Assistant
8574314215
uttamiec@gmail.com
7/5/1989
Write for betterment of PB
Best Wishes
Name
M.RAVI
City of residence
TIRUCHIRAPPALLI
Designation
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
Suggestions/Messages
ASSISTANT ENGINEER
9486808051
maniyaravi2009@gmail.com
25/07/1966
Write for betterment of PB
Being part of the Public service Broadcaster wish to take all effort to improve the service to the people.
Name
RAVINDRA A . BHAMBURE
City of residence
Designation
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
NASHIK MAHARASHTRA
Senior Engineering Assistant
9579086332
bhambureravi@yahoo.com
19/01/1964
Write for betterment of PB.
Name
KISHAN PATEL
City of residence
Designation
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
Suggestions/Messages


KADI,MEHSANA,GUJARAT
Listener/Viewer
8734815737
kishan.patel32@yahoo.in
12/6/1994
Inform others to join
Its a nice channel for our gujrati people...bcoz in a poor people house no channel on that tv..but dd girnar,national channel entertain in theirs free time...but my suggestion is 1 iss...give a chance to people show their talent...so guyss u make a dancing,singing, any types reality shows...bcoz that way you promote ur channel coz of audition...hope u like my suggestion..


If You too want to join PB Parivar Blog, just click HERE

Friday, April 18, 2014

After Retirement

                                                                                                                                                             Whatever Post You hold, You will be remembered for what good u did!


Send retirement details of PB Parivar members of ur station every month to pbparivar @gmail.com 
and 
Honour their contributions..

ITU Telecom World launches 2014 Young Innovators Competition

 
Geneva, 8 April 2014 – ITU has launched the fourth edition of its popular ‘Young Innovators’ competition, seeking out talented young thinkers and social technopreneurs across the globe, and encouraging them to showcase their innovative ideas at the upcoming ITU Telecom World 2014 in Doha in December this year.

The annual competition, which was launched in 2010, offers young people the chance to take part in workshops on entrepreneurial skills, opportunities to meet and network with leading ICT players, and to showcase their projects at the InnovationSpace, a dedicated show floor pavilion at ITU Telecom World. The first challenge of the 2014 edition focuses on ‘Local Digital Content’. Open to 18-30 year-old start-up founders from across ITU’s 193 member states, the competition is looking for the most promising tech start-ups that are inspiring the creation, aggregation or digitization of dynamic local content, particularly in non-Latin scripts.

Entries can be submitted by start-ups that are involved in script content, resolving the technical challenges of digitizing non-Latin scripts through innovative technologies, or pinpointing fresh uses for older technologies, such as optical character recognition, voice recognition or translation software. ….

Two start-ups will be selected as winners of this challenge by a Selection Committee of experts and invited to attend ITU Telecom World 2014.At the event itself, selected Young Innovators will enjoy mentoring and workshops on entrepreneurial skills, opportunities to meet and network with leading ICT players, and the chance to showcase their projects at the InnovationSpace, a dedicated show floor pavilion. Prize money of up to USD 10,000 in the form of seed funding will be awarded to implement and bring to scale winning start-ups. The competition will comprise a number of different challenges, the first of which focuses on local digital content.

The deadline for initial submissions is 30 May 2014, 24:00 GMT +2.

Visit https://ideas.itu.int/ for more information on the challenge and to apply or comment on submissions. You can also visit the Young Innovators’ Facebook page or contact us directly at young.innovators@itu.int.

Source Credit and full story at : http://www.itu.int/net/pressoffice/press_releases/2014/17.aspx#.U1DEm6JoqQl


श्रीमती मोक्षदा चन्द्राकर ने आकाशवाणी भोपाल के केन्द्राध्यक्ष का पदभार संभाला

आकाशवाणी भोपाल के नये केन्द्राध्यक्ष के रूप मेें केन्द्र निदेशक श्रीमती मोक्षदा चन्द्राकर ने अपना पदभार संभाल लिया है।

श्रीमती मोक्षदा (ममता) चन्द्राकर ने आकाशवाणी में कार्यक्रम अधिशासी (संगीत) के पद पर आकाशवाणी रायपुर से अपनी सेवाएं आरंभ कीं। 14 जनवरी 1999 को आपको आकाशवाणी में सहायक केन्द्र निदेशक के पद पर पदोन्न्त किया गया तथा पुनः 28 फरवरी 2014 को श्रीमती चन्द्राकर को केन्द्र निदेषक के पद पर पदोन्न्ति प्राप्त हुई। श्रीमती मोक्षदा ने आकाशवाणी के जगदलपुर, बिलासपुर तथा रायपुर केन्द्रो पर विभिन्न दायित्वपूर्ण पदों पर कार्य किया तथा हाल ही में आकाशवाणी महानिदेशालय द्वारा आपको आकाशवाणी रायपुर से स्थानंातरण पर आकाशवाणी भोपाल के केन्द्राध्यक्ष का पदभार सौंपा गया है।

बहुमुखी प्रतिभा की धनी श्रीमती चन्द्राकर छत्तीसग-सजय़ी की जानी-ंउचयमानी लोक गायिका हैं तथा कई सम्मानों से सम्मानित हो चुकी हैं। 3 दिसम्बर, 1958 को छत्तीसग-सजय़ के दुर्ग में जन्मी श्रीमती मोक्षदा (ममता) चन्द्राकर ने इंदिरा कला संगीत विश्वविघालय खैराग-सजय़ से शास्त्रीय संगीत (गायन) में एम.ए. डिग्री हासिल की तथा सन् 1994 में आपको आकाशवाणी वार्षिक प्रतियोगिता के अंतर्गत आकाशवाणी वार्षिक पुरस्कार 2011 प्राप्त हुआ। इसके साथ-ंउचयसाथ आपको अब तक अनेक सम्मान प्राप्त हो चुके हंै। आपने छत्तीसग-सजय़ व देश के अन्य राज्यों के ग्राम्यांचलों में अपनी मंचीय प्रस्तुतियों से पारम्परिक लोक-ंउचयसंगीत के विशुद्ध रूप को संरक्षित रखने हेतु बहुत कार्य किया हैै। छत्तीसग-सजय़ी लोकगीतों में डगरिया, करमा, सुवा, गउरा, बिहाव और नाचा आदि प्रमुख लोकगीतों की शुद्धता व पारम्परिकता के साथ-ंउचयसाथ, उनके संकलन, संर्वधन तथा संरक्षण के क्षेत्र में भी श्रीमती चन्द्राकर ने बहुत अच्छा काम किया है। 

उल्लेखनीय है कि श्रीमती मोक्षदा को इंदिरा कला संगीत विष्वविद्यालय खैराग-सजय़ द्वारा जनवरी 2014 में संगीत में डी-ंउचयलिट् की उपाधि से सम्मानित किया गया है। 
रिपोर्ट सहयोग-ंउचय राजीव श्रीवास्तव, प्रवीण नागदिवे

विज्ञान भारती का 23अप्रैल 2014 को विशेष प्रसारण

विज्ञान भारती का 23अप्रैल 2014 को विशेष प्रसारण आकाशवाणी अपने राष्ट्रीय प्रसारण “विज्ञान भारती” कार्यक्रम के अन्तर्गत 23 अप्रैल 2014 को रात्रि 10 : 00 बजे विशेष प्रसारण करेगा | जिसमें स्टेम सेल थेरेपी पर आधारित कवर स्टोरी - बैंक में ज़िन्दगी का प्रसारण होगा,जिसे डॉo रंजना बागची और डॉo गीता खन्ना प्रस्तुत करेंगी,साथ ही आदि ध्वनि ओम : वैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य में एक रिपोर्ट -भाभा एटामिक रिसर्च सेन्टर मुंबई के डॉo पी oएसo चौहान की प्रस्तुति की जाएगी और इन्स्टीच्यूट ऑफ़ बायोलॉजिकल साइंसेज़ -अहमदाबाद के डॉo अमित घोष- पर्यावरण प्रदूषण और इम्यूनिटी पर जानकारी देंगे ,इसके साथ ही श्रोता डॉo गीतिका  सिंह इंडोक्राइन सर्जरी विशेषज्ञ लखनऊ से जान सकेंगे -पिंक रिबन क्लिनिक की रिपोर्ट,यह कार्यक्रम आकाशवाणी लखनऊ केन्द्र पर श्री अमित कुमार ओम के सहयोग से तैयार किया गया है और इसे प्रस्तुत करेंगी अंतर्राष्ट्रीय वरिष्ठ कार्यक्रम निर्माता सुश्री मीनू खरे ,इसे आकाशवाणी के लखनऊ केन्द्र के मीडियम वेव और शार्ट वेव पर एक साथ प्रसारित किया जाएगा साथ ही देश के सभी प्राइमरी चैनल के मीटरों पर एक साथ सुना जा सकेगा ।

Contributed By: Shri Karuna Shankar Dubey ,kdubey306@gmail.com

FOR OUR KIDS


Asian School of Cyber Law offers various courses in India in digital mode. Courses such as Diploma in Cyber Law are offered in classroom mode in Mumbai, PG Program in Cyber Law is offered in both Mumbai and Pune. These courses are offered in depth knowledge in the field of cyber law and cyber investigation.
Cyber Law courses
Diploma in Cyber Law
  • Eligibility Criteria - 12th standard, HSC or equivalent is the minimum qualification required to apply for the course.
  • Course Details - The areas covered under the course are
  • Fundamentals of Cyber Law
  • Cyber crime and Digital Evidence - Indian Perspective
  • Intellectual Property Issues & Cyber space - Indian Perspective
  • E-commerce-Legal issues
The course is conducted in association with Government Law College, Mumbai. The course is offered in India in classroom mode only in Mumbai. Digital mode of classes is offered in rest of India. The course fee is Rs. 3600/-.
For those interested in specialising Asian School of Cyber Law offers Advanced Program in Cyber Laws course which includes areas like Cyber Crime Essentials, International Cyber Crime Law and Cyber Investigation & Forensics Documentation in addition to the areas mentioned above. The course fee is Rs. 11236/-.
FREE COURSES :-
1) Law
Learn about Cyber Law, Data Privacy Law, Corporate Law, Financial Law, Oil & Gas Law, Telecom Law, Aviation, Environmental Law and lots more.
2) Investigation, Forensics & Security
Learn about Counter-Terrorism, Crime Scene Investigation (CSI), Forensic Science, Cyber Security, Fingerprint Forensics, Audio Video Forensics and lots more.
3) Fraud Control
Learn about the Indian Standard IS 15900:2010 (Guidance on Fraud and Corruption Control by an Organization), UK Bribery Act and US Foreign Corrupt Practices Act (FCPA)

Thursday, April 17, 2014

आकाशवाणी पटना के उर्दू बुलेटिन ‘‘इलाकाई खबरें’’ ने पूरे किये 25 साल

आकाशवाणी पटना के उर्दू बुलेटिन ‘‘इलाकाई खबरें’’ ने पूरे किये 25 साल] by संजय कुमार

16 अप्रैल, 1989 समय.......अपराह्न 3 बजकर 15 मिनट.....बिहार में रेडियो सेट पर एक आवाज गूंजती है।........ये आकाशावाणी पटना है.....अब आप शानू रहमान से......इलाकाई खबरें.....सुनिये......।

यह दिन,समय, क्षण बिहार की मीडिया के लिए एक यादगार दिन बन गया। इतिहास के पन्नों में यह दिन दर्ज हुआ, बिहार में उर्दू समाचार बुलेटिन का आकाशवाणी से प्रसारण को लेकर। आकाशवाणी पटना के प्रादेशिक समाचार की शुरूआत यों तो 28 दिसम्बर, 1959 को ही शुरू हो गया था।

हालांकि 26 जनवरी, 1948 को आकाशवाणी, पटना केन्द्र का उद्घाटन हुआ था। जहां तक रेडियों पर समाचार प्रसारण का बिहार से संबंध की बात है तो हिन्दी के बाद सबसे ज्यादा बोली जाने वाली उर्दू भाषा को तरजीह दी गयी। केन्द्र सरकार ने बिहार को भी उर्दू बुलेटिन के लिए चुना। बिहार में उर्दू बुलेटिन की शुरूआत 16 अप्रैल, 1989 को हुआ। इसके बाद ‘‘इलाकाई खबरें’’ बिना रूके-थके लगातार प्रसारित होते हुए 25 साल का सफर तय कर लिया है। इलाकाई खबरें, उर्दू बुलेटिन ने कई उतार-चढ़ाव को पार किया।.........


पहला समाचार बुलेटिन आकाशवाणी के कार्यक्रम अधिशासी शानू रहमान ने पढ़ा। उर्दू बुलेटिन को पत्रकार तारिक फातमी ने तैयार किया। हालांकि मुख्य बुलेटिन हिन्दी में बना, जिसे श्री फातमी ने अनुवाद किया। अनुवाद की यह परिपाटी आज भी बरकरार है। हालांकि उर्दू डेस्क को अलग किये जाने की जरूरत है ताकि उसे अपना अस्तित्व मिल सकें। उर्दू समाचार बुलेटिन ‘‘इलाकाई खबरें’’ कहने के लिए पांच मिनट का है, लेकिन इसके एक-एक शब्द अपने-आप में महत्वपूर्ण होते हैं। हिन्दी से भले ही अनुवाद होता हो लेकिन इसमें उर्दू भाषा की गरिमा कूट-कूट कर भरी रहती है। ऐसा नहीं लगता कि यह अनुवादित है। असकी वजह है जो पत्रकार इसे बनाते हैं वे उर्दू पत्रकारिता के क्षे़त्र में अपनी पहुंच रखते है।

इलाकाई खबरें, को पढ़ने वालों में शुरू से लेकर अब तक उर्दू पत्रकारिता से जुड़े पत्रकारों ने किया है। इनमें उर्दू के वरिष्ठ पत्रकार रेहान गनी, रशीद अहमद, सरफुल होदा आदि प्रमुख हैं। लगभग नौ वर्षों से मेरा पाला उर्दू समाचार बुलेटिन से पड़ता आ रहा है। दोपहर तीन बजकर दस मिनट पर आकाशवाणी, पटना से प्रसारित होने वाले हिन्दी समाचार बुलेटिन को तैयार करता आ रहा हूँ। हिन्दी बुलेटिन की एक प्रति उर्दू डेस्क पर जाती है, जहां उर्दू के पत्रकार उसका अनुवाद उर्दू में करते हैं। यह केवल अनुवाद नहीं होता, बल्कि उसमें उर्दू पत्रकारिता की जान फूंकी जाती है। भाषायी, शब्दों के चयन सहित अन्य पत्रकारिता के अन्य पहलूओं पर बारिकी से नजर रखी जाती है। ऐसा नहीं कि जो हिन्दी की कापी जाती है, उसका एक-एक लाईन, एक-एक शब्द का अनुवाद कर दिया जाय, बल्कि उर्दू डेस्क को यह पूरी छूट रहती है कि वे इलाकाई खबरें, को वे हिन्दी भाषा के तर्ज पर न देकर उर्दू भाषा के मापदंडों के तहत तैयार करें। बुलेटिन में गड़बड़ियां न जायें उस पर उनकी एक सजग पत्रकार की तरह नजर रहती है। अक्सर तकनीकी गड़बड़ियों को ज्यादातर उर्दू डेस्क पकड़ता मिला। इसकी वजह साफ है कि उर्दू डेस्क पर काम करने वाले अनुवादक-सह-वाचक एक तो लंबे समय से आकाशवाणी के उर्दू डेस्क से जुड़े रहें। दूसरा, वे एक मीडियामैन की तरह कार्य करते रहें। तीसरा उनके अंदर उर्दू भाषा को लेकर एक समर्पण दिखा, एक जज्बा दिखा और भाषा को एक मुकाम देने की ललक दिखी।

इलाकाई खबरें, पच्चीस साल का हो गया है। यह आकाशवाणी पटना के लिए गौरव की बात है। महत्वपूर्ण बात यह भी है कि इलाकाई खबरें बुलेटिन को लेकर कभी भी किसी स्तर पर शिकायत सुनने को नहीं मिली। यही नहीं उर्दू ने कभी भी, हिन्दी बुलेटिन से दावेदारी नहीं की और न हिन्दी ने ही उर्दू बुलेटिन को कमजोर करने का प्रयास किया। बिहार जहां उर्दू भाषा को दूसरे राज्य भाषा का दर्जा प्राप्त है। ऐसे में इसे बोलने वालों की संख्या भी ज्यादा है। मीडिया के बदलते पैमानों में उर्दू बुलेटिन में भी थोड़ा बदलता स्वरूप दिखा। खासकर पदनाम को लेकर उर्दू में अंग्रेजी शब्दों का इस्तेमाल का होना, मुझे अक्सर खटकता रहा, कई बार उर्दू डेस्क से इस संदर्भ में चर्चा भी हुईं, लेकिन हिन्दी का उसका उर्दू शब्द नहीं मिलना और फिर हिन्दी की जगह उर्दू शब्दों को स्वीकार करना इलाकाई खबरें बुलेटिन के लिए एक जरूरी हिस्सा बन गया, हालांकि मैं, अपने संपादन काल में उर्दू डेस्क को सलाह देता रहा कि वे ज्यादा-से-ज्यादा उर्दू शब्दों का ही प्रयोग करें।
उर्दू बुलेटिन इलाकाई खबरें, हिन्दी बुलेटिन के अनुवाद पर ही टिका नहीं है। कई ऐसे मौके आयें, जहां उर्दू डेस्क से हिन्दी डेस्क पर खबरें ली गयी। खासतौर से ईद, बकरीद, या फिर मुसलमानों के पर्व-त्योहारों की खबरों या फिर उर्दू भाषा से संबंधित खबरों को उर्दू डेस्क से ही बनवाया जाता रहा। इस वजह से हिन्दी बुलेटिन में उर्दू शब्दों का समावेश होता रहा, हालांकि आकाशवाणी के प्रादेशिक समाचार के हिन्दी बुलेटिन में हिन्दी, उर्दू में उर्दू और मैथिली शब्दों को ही प्राथमिकता दी जाती रही। अंग्रेजी शब्दों के प्रचलन को हावी नहीं होने दिया गया। आधुनिक मीडिया के दौर में भले ही लोग यह कहें कि रेडियो कौन सुनता हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि बिहार में रेडियों की पकड़-पहुंच बहुत मजबूत है। दूर-दराज क्षेत्रों में इसकी गूंज सुनायी पड़ती है और हिन्दी, मैथिली के साथ-साथ उर्दू बुलेटिन को भी जोश-खरोस के साथ सुना जाता है।

Contribution:Gurjeev Walia
gurjeevwalia@gmail.com


123rd Birth Anniversary of Bharat Ratna Dr.B.R.Ambedkar was celebrated at AIR, Diphu







Contributed By:-Lalmani Gond
aediphu@gmail.com

विज्ञापन प्रसारण सेवा आकाशवाणी कानपुर केन्द्र पर बाबा साहेब भीम राव अम्बेडकर जयन्ती का आयोजन











Contributed by:- Karuna Shankar Dubey
kdubey306@gmail.com

PB Parivar Blog Membership Form